मिलो कभी खुद से |weekendpoetry

ये सुनसान गलियां और रातें
बताओ यहाँ तुम्हारा कौन है
किसकी तलाश में भटक रहे हो
हर दम बेफ़िक्र, बेख़बर हो कर के

मिलो कभी खुद स
ज़माने में रखा क्या ह
तज़ुर्बे की बात करो अपन
यहाँ गलियों में भटक कर किसी को मिला क्या ह

कहानियाँ बनाओ खुद क
इतिहास के पन्नों में तो बस कुछ ही नाम है
ठोकरे सभी ने खाई है अपने हिस्से क
बस अब आने वाले कल में एक तुम्हारा नाम ह

माना ख्वाइशें तुम्हारी आज भी क़ैद है
पर छुपाओ न खुद से खुद ह को
बहाने तो बना लिए लाखों आज तुमने
अब आने वाले कल का भी क्या वही हश्र है?

©weekendpoetry

16 thoughts on “मिलो कभी खुद से |weekendpoetry

  1. Ravindra Kumar Karnani says:

    पूरी कविता ही विशेष  है , पर अति विशेष है :
    “बहाने तो बना लिए लाखों आज तुमने
    अब आने वाले कल का भी क्या वही हश्र है? ”
    गजब लिखा है साधुवाद आपको |  
    Recently read on Net :
    “The only thing standing between you and your goal is the bullshit story you keep telling yourself as to why you can’t achieve it.”― Jordan Belfort

    Liked by 2 people

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s